Mamata Banerjee की चिट्ठी पर Election commission का जवाब- Nandigram के बूथ पर नहीं हुई हिंसा, BSF जवानों पर आरोप गलत

West Bengal Assembly Election 2021: ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की शिकायत पर चुनाव आयोग ने जवाब दे दिया है. चुनाव आयोग ने साफ कहा है, नंदीग्राम में शांतिपूर्ण तरीके से मतदान संपन्न हुआ है.

कोलकाता: पश्चिम बंगाल चुनाव (West Bengal Assembly Election 2021) के दौरान मुख्यमंत्री व तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की शिकायत पर चुनाव आयोग (Election Commission) ने जवाब दे दिया है. चुनाव आयोग ने साफ कहा है कि नंदीग्राम में बूथ नंबर 7 पर शांतिपूर्ण मतदान हुआ, यहां किसी भी तरह की कोई हिंसा नहीं हुई है. 

‘बीएसएफ जवानों पर गलत आरोप’

चुनाव आयोग (Election Commission) ने ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को भेजे जवाब में लिखा है, ‘आपकी चिट्ठी में लिखी बातें तथ्यात्मक नहीं हैं.’ 1 अप्रैल को नंदीग्राम वोटिंग में बाधा नहीं हुई. बीएसएफ जवानों पर लगाए आरोप सरासर गलत हैं. हिंसा और वोटर्स को डराने की बात गलत है. नंदीग्राम के पोलिंग बूथ 7 पर मतदान सही और शांतिपूर्ण तरीके से हुआ है. 

क्या है मामला?

बता दें, पश्चिम बंगाल विधान सभा चुनाव (West Bengal Assembly Election 2021) के दूसरे चरण का मतदान बीते गुरुवार (1 अप्रैल 2021) संपन्न हुआ. इसके बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग से केंद्रीय सुरक्षा बलों के केंद्र सरकार के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया. ममता ने कहा था चुनाव आयोग को 63 शिकायतें दर्ज कराई हैं लेकिन आयोग गंभीरता से नहीं ले रहा. 

पक्षपात की शिकायत

ममता ने आरोप लगाया था, ‘गृह मंत्री खुद सीआरपीएफ, बीएसएफ और अन्य जवानों को यह निर्देश दे रहे हैं कि वे सिर्फ बीजेपी और उनके लोगों की मदद करें. मैं चुनाव आयोग से उनकी चुप्पी के लिए खेद प्रकट करती हूं. हमने कई पत्र लिखे हैं लेकिन वे एकतरफा बीजेपी उम्मीदवारों का समर्थन कर रहे हैं.’ ममता ने चुनाव आयोग के सामने शिकायत की थी कि नंदीग्राम विधान सभा क्षेत्र में बूथ नंबर 7 पर गड़बड़ी हुई है.

यह भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल: पीएम Narendra Modi ने किया वादा, कहा- चुनाव जीतते ही लागू करेंगे किसान सम्मान निधि योजना

ममता की शिकायत पर आयोग का जवाब

इधर ममता की शिकायत पर चुनाव आयोग ने जवाब दे दिया है. जवाब में आयोग ने कहा है, स्पेशल ऑब्जर्वर अजह नायक और पुलिस ऑब्जर्वर विवेक दुबे द्वारा इस मामले में विस्तृत रिपोर्ट शनिवार शाम 5:30 पर सौंपी गई. रिपोर्ट के मुताबिक वहां किसी भी तरह की गड़बड़ी नहीं हुई है. चुनाव आयोग के जवाब की खास बातें – 

1- इस बात का कोई सबूत नहीं मिला है कि नंदीग्राम के पोलिंग स्टेशन 7 पर तैनात BSF जवान का व्यवहार गलत रहा. BSF जवान द्वारा वोटर्स को पोलिंग बूथ पर वोट डाले जाने से रोकने का आरोप गलत है.

2- वहां किसी  भी तरह की हिंसा का कोई सबूत नहीं हैं, न किसी वोटर को धमकी दी गई है. 
 
3- आपके द्वारा हाथ से लिखे पत्र में लगाए गए आरोप तथ्यात्मक तौर पर गलत हैं. बिना किसी प्रमाणिक मूल्यांकन के आरोप लगाए गए हैं. 

4- 1 अप्रैल को नंदीग्राम वोटिंग में बाधा नहीं हुई. नंदीग्राम के पोलिंग बूथ 7 पर मतदान सही और शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हुआ है. 

बंगाल चुनाव कार्यक्रम

बता दें कि पश्चिम बंगाल (West Bengal) की 294 विधान सभा सीटों के लिए 8 चरणों में वोटिंग संपन्न होगी. राज्य में 27 मार्च, एक अप्रैल को पहले और दूसरे चरण का मतदान हो चुका है. 6 अप्रैल, 10 अप्रैल, 17 अप्रैल, 22 अप्रैल, 26 अप्रैल और 29 अप्रैल को मतदान होना बाकी है, जबकि चुनाव परिणाम 2 मई को आएंगे. पहले और दूसरे चरण में 30-30 सीटों पर मतदान हुआ. तीसरे चरण में 31 सीटों, चौथे चरण में 44 सीटों, पांचवें चरण में 45 सीटों, छठे चरण में 43 सीटों, सातवें चरण में 36 सीटों और आठवें चरण में 35 सीटों पर मतदान करवाया जाएगा.

Leave a Comment