बढ़े हुए यूरिक एसिड को जल्द कंट्रोल कर देगी अजवाइन, जानें कब और कैसे करना है इस्तेमाल

सामान्य से अधिक किसी भी चीज की अधिकता सेहत के लिए हानिकारक होती है। खराब लाइफस्टाइल की वजह से ज्यादातर लोग कई बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। इन्हीं में से सेहत संबंधी एक समस्या यूरिक एसिड का बढ़ा होना भी है। अगर समय रहते ही शरीर में इसका लेवल नियंत्रित नहीं किया गया तो ये कई और बीमारियों का कारण बन सकता है। दवाओं के अलावा यूरिक एसिड के शरीर में लेवल को कुछ घरेलू नुस्खों द्वारा भी नियंत्रित किया जा सकता है। इसी में से एक नुस्खा अजवाइन का भी है। जानें अजवाइन यूरिक एसिड को किस तरह से कंट्रोल करती है। साथ ही जानें कि इसका सेवन किस तरह से करना सेहत के लिए लाभदायक होता है। 

अजवाइन करेगा यूरिक एसिड कंट्रोल

खाने का स्वाद बढ़ाने के अलावा अजवाइन यूरिक एसिड के स्तर को भी नियंत्रित करने में असरदार है। अजवाइन में ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है जो बढ़े हुए यूरिक एसिड के लेवल को कंट्रोल करता है। 

जानें अजवाइन का कैसे करें इस्तेमाल
रोजाना सुबह खाली पेट एक गिलास अजवाइन का पानी पिएं। इसके लिए आप सोने से पहले एक गिलास पानी में एक चम्मच अजवाइन डालकर रख दें। दूसरे दिन सुबह इस पानी को छान लें और खाली पेट पी लें। इसके अलावा आप अजवाइन के साथ अदरक भी मिलाकर खा सकते हैं। इन दोनों को एक साथ खाने से पसीना निकलेगा जिससे यूरिक एसिड अपने आप नियंत्रित हो जाएगा। 

जोड़ों के दर्द में दिलाती है राहत
अजवाइन गठिया और जोड़ों के दर्द में राहत दिलाने का काम करता है। इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी तत्व पाए जाते हैं जो अर्थराइटिस से जुड़ी समस्या से भी राहत दिलाने का काम करता है।

वायरल इन्फेक्शन से करती है बचाव
अजवायन में एंटी बैक्टीरिया के तत्व मौजूद होते हैं। यही एंटी बैक्टीरिया तत्व शरीर को सर्दी जुकाम जैसे वायरल इन्फेक्शन से बचाने का काम करती है।

एसिडिटी और कब्ज में राहत पहुंचाती है
अजवाइन का सेवन करने से एसिडिटी और कब्ज में राहत मिलती है। इसमें एंटीस्पास्मोडिक और कर्मिनेटिव गुण पाए जाते हैं जो एसिडिटी को कम करने में असरदार होते हैं। 

वजन कम करने में भी कारगर
अजवाइन का इस्तेमाल वजन कम करने के लिए भी किया जाता है। भुनी हुई अजवाइन भूख को शांत करने और मोटापे को घटाने में असरदार है। अगर आप इसका सेवन रोजाना भून कर करें तो इससे वजन नियंत्रित किया जा सकता है।